ट्यूलिप फूल की जानकारी – Tulip Flower in Hindi

By | August 17, 2019

यह सुन्दर सा ट्यूलिप (Tulip) का फूल पुरे दुनिया में पाया जाता है | जानिए Hindi में इस Tulip flower से जुडी कई जानकारियां जिसे आप निचे प्राप्त कर सकते हैं | हमारा ये पूरा लेख Tulip Flower और उससे जुडी Information पर हीं अधारित है। इस फूल की सुन्दरता और इसकी खुशबू लोगो को अपनी तरफ आकर्षित करता है । यह फूल कई तरह के रंगों में खिलता है और आमतौर पर इसे सजावटी के लिए use किया जाता है।

Tulip Flower

Tulip Flower in Hindi = कंद पुष्प 

परिचय / Introduction

Tulip flower के पौधे को lily परिवार का सदस्य माना जाता है। यह फूल एशिया महाद्वीप में अधिक पाया जाने वाला फूल है । India में यह फूल कश्मीर में सबसे अधिक पाया जाता है । कहने को तो ट्यूलिप तुर्की का मूल निवासी है परन्तु इसकी उत्पत्ति हिमालय area की मानी जाती है। ये पहाड़ी area में सबसे ज्यादा देखने को मिलता है । कहा जाता है की 16th century में tulip का फूल सबसे पहले यूरोप में पाया गया था। नीदरलैंड में इसकी सबसे अधिक खेती होती है । Tulip शब्द एक फारसी word “डेलबैंड” से लिया गया है जिसका मतलब पगड़ी होता है । कहा जाता है की तुर्की के पहले ज़माने के लोग अपनी पगड़ी को इस फूल के तने से सजाया करते थे ।

फूल की विशेषताएँ / Height, Size and Color

Tulip Flower yellow, red, pink white , purple आदि कई रंगों में पाया है। रंग बिरंगे रंगों के साथ ये एक सीधा खड़ा हुआ फूल होता है। इस फूल के कई प्रजाति होते है और इसके लगभग सभी प्रजातियों में सिर्फ एक फूल होता है । कुछ ऐसे प्रजाति है जिनमे एक से अधिक फूल भी होते है। फूल दिखने में एक कप के जैसा होता है और इसमें 6 पंखुड़ियां होती है। इस फूल के लगभग सभी प्रजाति के एक पौधे पर केवल दो से चार या छः पत्ते होते है और पत्ते का रंग हरा होता है । इसका पौधा कम से कम 3 इंच से लेकर 7 इंच तक के ऊंचाई तक बढ़ सकता है।

अलग अलग रंग के tulip के फूल का अर्थ भी होता है जैसे की सफेद रंग के tulip flower का मतलब होता है माफी मांगना , वही लाल फूल का अर्थ होता है प्यार दर्शाता । लोगो के बीच सबसे ज्यादा लोकप्रिय purple tulip है जिसे “क्वीन ऑफ नाईट” भी कहा जाता है । लोगो को आकर्षित करने वाला ये खुबसूरत फूल खिलने के कुछ दिनों बाद हीं मुरझा भी जाता है।

जलवायु / Climate

Tulip flower वसन्त ऋतु में बहुर अच्छा पनपता है। यह फूल वसंत की start होने से लेकर गर्मियों के start होने तक खिलता हैं। इसके पौधे के लिए ठंडी सर्द जलवायु को अच्छा कहा गया है इसलिए ये सबसे ज्यादा हिमालय क्षत्र में हीं पाया जाता है। आमतौर पर उत्तर में सितंबर या अक्टूबर और दक्षिण में नवंबर या दिसंबर के दौरान इस पौधे को लगाना अच्छा माना गया है । इसके पौधे को अधिक सूर्य की किरण से नुकसान पहुँचता है । इससे फूल जल्दी मुरझा कर झुक जाता है।

ट्यूलिप  के प्रकार / Varieties for Tulip

Tulip plant and flower

ट्यूलिप के फूल सिंगल, डबल, रफल्ड, फ्रिंज या लिली के आकार के हो सकते हैं, जो की इसकी विविधता यानि की variety पर निर्भर करते हैं। जंगली, या प्रजाति, ट्यूलिप आकार में छोटे होते हैं, जिनकी ऊंचाई 3 से 8 इंच तक होती है । ये संकर की तुलना में कठोर होते हैं।

Triumph hybrids क्लासिक सिंगल, कप-शेप ट्यूलिप हैं जो ट्यूलिप प्रकारों का सबसे बड़ा समूह बनाते हैं। इसके top varieties है :

  • Cracker tulip: ये प्रजाति मध्य वसंत में बैंगनी, गुलाबी और बकाइन पंखुड़ियों के साथ खिलता है।
  • Ile de France: यह 20 इंच लंबा तने पर अपनी लाल रंग की तीव्रता के साथ खिलता है ।
  • Calgary: यह बर्फीली सफेद पंखुड़ियों और नीले-हरे पत्ते के साथ खिलने वाला फूल है।

ऐसे और भी फूल है जैसे की Guldaudi flower, Rhynchostylis Retusa, आईरिस फूल  आदि |

 पौधे को कैसे उगाये / How to Grow Tulip Flower

  • ट्यूलिप को उगाने के लिए रेतीली मिट्टी को अच्छा कहा गया है ।
  • सबसे पहले लगभग 12 से 15 इंच तक की गहराई तक मिट्टी में छेद करे और फिर उसमे कम से कम 4 इंच की परत तक खाद मिलाएं।
  • अब बल्ब के आधार को नापते हुए, लगभग 8 इंच गहराई में बल्ब को रोपे और इस बात का खास ख्याल रखे की बल्ब जितना बड़ा होगा मिट्टी में छेद उतना ही गहरा होगा ।
  • मिट्टी के छेद में बल्ब को रोपते हुए ऊपर तक मिट्टी से कवर करें और फिर मिट्टी को मजबूती से दबाएं।
  • रोपण के ठीक बाद बल्ब को पानी दें । वैसे ये अधिक गीलापन नहीं सहन कर सकता लेकिन फिर भी बल्बों के विकास को गति देने के लिए उसे पानी देना आवश्यकता होती है।

ट्यूलिप पौधे की देखभाल  / How to Take Care

Tulip flower farm

  • यदि साप्ताहिक रूप से बारिश होती है, तो पौधे को पानी न डालें। हालांकि, अगर सूखा है और बारिश नहीं होती है, तो आपको बल्ब को साप्ताहिक रूप से पानी देना चाहिए जब तक की पानी जमीन में जमा न हो जाए।
  • फूल आगे भी हमेशा खिलते रहे इसके लिए पौधे को आवश्यक पोषक तत्व के रूप में खाद प्रदान करें।
  • पौधे पर फूल आने के लगभग 6 सप्ताह बाद तक पत्तियों को पौधों पर रहने दें। tulip को अगले वर्ष तक के लिए खिलने हेतु ऊर्जा इकट्ठा करने के लिए उसे अपने पत्ते की आवश्यकता होती है ।
  • जब इसके पत्ते पीले होने लगे और मुरझा कर सुख जाए तब इसे पौधे से अलग कर दिया जा सकता है।
  • tulip के पौधे को कुछ कीटो से खतरा हो सकता है जैसे की ग्रे मोल्ड, slugs, घोघें, बल्ब सड़ांध आदि । इसके अलावा गिलहरी, खरगोश, और चूहे विशेष रूप से tulip bulb के शौकीन होते हैं।
  • Tulip flower को तेज सूर्य के रौशनी से बचाने की कोशिश करे ।
  • Tulip bulb का रोपण ठंडी जलवायु में हिन् करना उचित माना गया है ।

रोचक तथ्य / Interesting Facts About Tulip

  • Tulip flower के लगभग 150 से भी अधिक प्रजाति पाए जाते है ।
  • इस फूल के पौधे का प्याज की family से भी सम्बन्ध बताया गया है । इसकी पंखुरियों को प्याज़ की जगह पर खाने में भी इस्तेमाल किया जाता है ।
  • तुर्की व अफगानिस्तान का यह राष्ट्रीय फूल कहलाता है ।
  • India के श्रीनगर में tulip फूल का एक बहुत बड़ा गार्डन है जहाँ दूर दूर से लोग घुमने आते है ।
  • वर्ल्ड का सबसे बड़ा tulip garden नीदरलैंड में है।
  • 16th century में यह फूल काफी demand में हुआ करता था और कहा जाता है की उस समय इसकी कीमत diamond से भी ज्यादा महँगी हुआ करती थी।
  • १६३४ से लेकर १६३७ तक के समयकाल को Tulip Mania नाम से हीं जाना जाता है क्यूंकि इस फूल की कीमत सबसे ज्यादा हुआ करती थी ।
  • Tulip plant का life 2 साल से ज्यादा होता है और इसकी फूल का life केवल 3 से 7 दिन तक हीं होता है।

आशा करती हूँ की यहाँ दी गयी Tulip flower की दी गयी जानकारी आपको अच्छी लगी होगी | अगर आपके पास कोई प्रश्न या सुझाव हो तो निचे जरुर बतलाये |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *