Nettle Leaf/Plant in Hindi – बिच्छू बूटी से जुड़ी जानकारी

By | July 30, 2019

Nettle Plant जिसे हिंदी में बिछुआ का पौधा कहा जाता है, दोस्तों आज हम इसी पौधे के बारे में बात करने जा रहे है । Nettle Plant और leaf कैसे होते हैं , इसके क्या uses और फायदा है , इस पौधे को कैसे उगाया जाता है, आदि इससे जुड़ी कई सारी जानकारियां आपको हमारे इस article में उपलब्ध मिलेंगे । तो चलिए दोस्तों जानते है Nettle leaf और plant से जुडी जानकारी |

Nettle plant leaf or Bichu Buti information

परिचय /  Introduction:  

Nettle plant का sscientific name “Urtica dioica” है। यह एक बड़ा, प्रकंदनुमा, बारहमासी (सालों भर) जंगली खाद्य पौधा है जो काफी लंबा हो सकता है। “बिछुआ” का पौधा  यानि की nettle plant एक सामान्य खरपतवार है। यह बगीचों, अपशिष्ट क्षेत्रों, जहां जानवर रहते हैं, नम क्षेत्रों जैसे जगहों पर पाया जाता है। Nettle Plant आमतौर से छायांकित पगडंडियों और नदियों के किनारे जहाँ समृद्ध मिट्टी पाई जाती है, यह उन क्षेत्रों में पनपता है ।

ये अपने पत्तियों और ताने के साथ तेजी से बढ़ने वाला पौधा है। मूल रूप से यूरोप और एशिया में पाया जाता है ।  इस पौधे में तेज बाल होते हैं जो आसानी से टूट जाते हैं और पौधे को छूने पर जलन या डंक मार जैसा महसूस हो सकता है ।  दुनिया भर में बिछुआ पौधों की 50 से भी अधिक किस्मों पाए जाते है। इसके पत्तो का उपयोग जड़ी-बूटी के रूप में भी किया जाता है । न्यूजीलैंड में 3 प्रजातियां हैं: देशी ओंगोंगा (nettle का विशाल वृक्ष), और 2 शुरू की गई किस्में है ।

इस पौधे को Stinging Nettles भी कहते है । Sting nettle का स्टिंग उनके चुभने वाले बालों से आता है, जिन्हें ट्राइकोम्स कहा जाता है। ये चुभने वाले बाल पत्तियों के नीचे और तने पर होते हैं।

हालाँकि Nettle Plant एक तरह का विटामिन युक्त खाद्य स्रोत है और साथ ही साथ विभिन्न चिकित्सा स्थितियों के लिए भी एक उपाय है। यूरोप में पौधों को क्लोरोफिल के निष्कर्षण के लिए व्यावसायिक रूप हेतु काटा जाता है, जिसका उपयोग खाद्य पदार्थों में एक सुरक्षित हरे रंग के एजेंट (E140) के रूप में किया जाता है।

पौधा / Plant

Nettle Plant आम तौर पर 1 मीटर और स्थान और मिट्टी की स्थिति के आधार पर 2 मीटर तक बढ़ सकता है। इसमें व्यापक रूप से प्रकंदों और स्टोलों को फैलाया जाता है, जो चमकदार पीले रंग के होते हैं जैसा की ये इसकी जड़ें हैं ।

बिच्छू बूटी के पत्ते / Nettle Leaf

Bichu buti leaf or stinging nettle

Nettle Plant के पत्ते कुछ दांतेदार होते है और कुछ हद तक ये दिल के आकार जैसे दीखते है । इस पौधे के पत्ते लगभग 3 से लेकर 15 cm तक के होते है । इसके छोटे हरे फूलों की पतली कैटकिंस इसकी पत्ती की धुरी से हीं बढ़ती हैं। इसकी पत्तियां सबसे अच्छी तब होती हैं जब पौधा  3 फीट से कम लंबा होता है। nettle के पत्तो में कई तरह के पोषक तत्व भी पाए जाते है जैसे की  विटामिन ए, सी, डी, ई और साथ हीं इसके पत्तो में एंटीऑक्‍सीडेंट गुणों के अलावा  एंटीमाइक्रोबियल, Anti-ulcer व दर्द निवारक गुण भी पाए जाते है । इसके पत्तो में Calcium, iron, Linoleic acid, magnesium, phosphorus, आदि कई Nutrients पाए जाते है ।

Climate / जलवायु

इस पौधे को उगाने के लिए पूर्ण सूर्य से आंशिक छाया की आवश्यकता होती है । ये मध्यम छाया को भी सहन कर लेता है ।

मिट्टी / Soil

ये पौधा मध्यम लेकिन काफी गीली मिट्टी को सहन कर सकता हैं । ये मिट्टी की एक विस्तृत श्रृंखला 5.5 से 7.5pH को सहन करता है ।

बिच्छू बूटी के फायदे / Uses & Benefits

Nettle Leaf Benefits

उत्तरी गोलार्ध के मूल निवासी इस पौधे का उपयोग लम्बे समय से दवा और भोजन के लिए करते आ रहे है । वहीँ से इसे दुनिया भर में पेश किया गया है  और अब इसे एक लाभकारी पौधे की तुलना में अधिक खरपतवार के रूप में देखा जाता है।

  • स्टिंगिंग नेटल लंबे समय से एक खाद्य और औषधीय पौधे के रूप में उपयोग किया जाता है।
  • इस पौधे को खाया जा सकता है, चाय के लिए उपयोग किया जाता है, और लिनन के समान फाइबर बनाने के लिए उपयोग किया जाता है ।
  • बिछुआ का उपयोग सैकड़ों वर्षों से दर्दनाक मांसपेशियों और जोड़ों, एक्जिमा, गठिया, गठिया और एनीमिया के इलाज के लिए किया जाता है।
  • स्टिंगिंग नेट्टल्स हिस्टामाइन, एसिटाइलकोलाइन, सेरोटोनिन, मोरोडिन, ल्यूकोट्रिएन और फॉर्मिक एसिड को इंजेक्ट करते हैं।

पौधा कैसे लगाए / How to Plant

  • अपने क्षेत्र के लिए ठंढ के आखरी से लगभग चार से छह सप्ताह पहले बीज को बोना शुरू करें।
  • सबसे पहले नरम मिट्टी से भरे pot के बर्तन में एक से तीन बीज को रोपें। आप चाहे तो बगीचे में भी इस बीज को रोप सकते हैं।
  • हल्के से मिट्टी के ¼ इंच के साथ बीज को ढक दें ।
  • बढ़ते हुए nettle plant के बीज को नम रखें ।
  • बीज अंकुरण लगभग 14 दिनों तक होना चाहिए।
  • वसंत में बीज की पंक्तियों में एक इंच का फासला होना चाहिए साथ हीं बीज बोये गए स्थान नम होनी चाहिए।
  • बीज बोने के लगभग 80 से 90 दिनों के बीच आपका पौधा कटाई के लिए तैयार हो जाएगा।
  • इस पौधे की कटाई करने का सबसे अच्छा वक्त वसंत के कुछ week पहले का होता है जब पत्तियां जवान और कोमल होती हैं।
  • कटाई से पहले हांथो में दस्ताने और बदन पर बहुत सारे कपड़े पहनना ना भूले । अन्यथा, इस पौधे के छोटे छोटे बाल आपकी त्वचा में बैठ जायेगी जिससे आपको कई तरह की परेशानिया हो सकती है ।

भण्डारण / Storage

आवश्यकतानुसार पौधे के पत्ते की कटाई कर के उसे सुखाया जाता है ताकि उसका उपयोग किया जा सके । बहुत से लोग बस ताजा पत्तियों को भूरे रंग के पेपर बैग में रखते है और कभी-कभी बैग को हिलाते है जब तक की पत्तियां अच्छे से सूख ना जाये ।

 सावधानियां / Precaution

  • यदि nettle leaf का डंक लगा हो तो फ़ौरन हीं राहत पाने के लिए इसके बालों को साबुन और पानी से धो कर हटा लें । यदि पानी उपलब्ध ना हो तो किसी कपड़े या अन्य उपलब्ध सामग्री से हीं डंकित जगह को साफ़ करें ।
  • जिस स्थान पर इसके पत्ते का बाल से डंक लगा हो वहां बेकिंग सोडा और पानी का एक पेस्ट बना कर लगाएं ।
  • खुजली वाले क्षेत्रों को खरोंचने या रगड़ने से बचें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *