काजू का पेड़, फल और उससे जुडी जानकारी

By | July 13, 2019

काजू जो की एक तरह का dry fruit होता है लगभग सभी लोग इसका नाम सुने होंगे और इसे खाए भी होंगे । यहाँ पर Kaju tree और fruit से जुडी पूरी जानकारी दी गयी है | खाने में स्वादिष्ट लगने वाला यह dry fruit केवल खाने में हीं स्वादिष्ट नही बल्कि कई तरह से फायदेमंद भी होता है । लेकिन क्या आप जानते है की जिस काजू को हम खाते है वह कहाँ से आता है ? इसके पेड़ कैसे होते है ? पेड़ से टूटने के बाद काजू कैसा दीखता है और कैसे इसे process के बाद खाने योग्य बनाया जाता है ? किस देश में इसका उत्पादन अधिक होता है ? अगर आप काजू के पेड़ के बारे में जानना चाहते है तो आप हमारे इस आर्टिकल को पढ़े इसमें आपको इस पेड़ से जुडी कई जानकारियां दी गई है ।

Kaju ka Pedh Information

तो आइये जानते हैं इस Kaju tree से जुडी information और इसके फायदे विस्तार में |

काजू का पेड़ / Kaju Tree Information

काजू का पेड़  एक बहुत हीं तीव्रता से बढ़ने वाला उष्णकटिबंधीय वृक्ष होता है । आमतौर पर यह वृक्ष लगभग 13 से लेकर 14 meter तक बढ़ता है। यह एक ऐसा पेड़ है  जो काजू के बीज और काजू सेब का उत्पादन करता है। लेकिन इसके बौने किस्म 6 मीटर (20 फीट) तक बढ़ते है, जो की उच्च पैदावार के साथ अधिक लाभदायक साबित हुआ है। यह पेड़ अक्सर अनियमित shape के ट्रंक के साथ बढ़ता है। काजू के बीज, जिसे अक्सर काजू हीं कहा जाता है, व्यापक रूप से इसी का सेवन किया जाता है।

पत्ते

काजू के पेड़ के पत्ते सर्पिल रूप से व्यवस्थित, चमड़े की बनावट वाली, अण्डाकार से ओबेटेट, लगभग 4 से 22 cm (1.6–8.7 इंच) तक लंबी और 2 से 15 cm (0.79–5.91 इंच) चौड़ी होती हैं, जिसमें चिकनी मार्जिन भी होते है।

फूल

Cashew flower and fruit

काजू के पेड़ पर लगने वाले फूल लगभग 26 cm (10 इंच) तक के एक पैनिकल या कोरिम्ब में उत्पन्न होते हैं । इसके प्रत्येक फूल पहले छोटा, हल्का हरा और फिर फिर लाल, पांच पतले, तीव्र पंखुड़ियों वाला 7-15 मिमी लंबा होता है।

फल

काजू के पेड़ का फल यानि की काजू एक उपयोगी फल है । इसके फल का shape ऐसा प्रतीत होता है की यह एक  अंडाकार या नाशपाती के आकार का संरचना है।  इसका फल खाने योग्य होता है और इसमें एक मजबूत “मीठा” गंध और स्वाद होता है।  काजू के पेड़ का फल किडनी या बॉक्सिंग-दस्ताने के आकार का ड्रूप में बढ़ता है। ड्रूप सबसे पहले पेड़ पर बढ़ता  है, और फिर पेडिकेल काजू सेब (Pedicel cashew apple) बनने के लिए फैलता है । काजू सेब का गुद्दा बहुत हीं रसदार होता है, लेकिन इसके त्वचा बहुत हीं नाजुक होते है।

काजू के फायदे

  • काजू का सेवन करने से हमारी हड्डिया और भी मजबूत होती है |
  • इसे खाने से हमारी यद्दादशत बहुत अच्छी रहती है |
  • काजू खाने से हमारी त्वचा बहुत ही चमकदार और मुलायम रहती है |
  • यह हमारी पाचन शक्ति को मजबूत बनाता है |
  • काजू का खाने से मनुष्य के शारीर के शक्ति को हमेशा बरक़रार रखता है |
  • काजू का सेवन अगर सुबह में किया जाये तो यह और भी फायदेमंद रहता है |

काजू का उत्पादन करे वाले देश / कहाँ होता हैं

काजू के पेड़ का जन्म स्थल “ब्राजील” है । काजू मूल रूप से ब्राजीलियन नट हीं कहलाता है। सन 1550 में पुर्तगाली शासकों द्वारा ब्राजील से काजू की आयत निर्यात शुरू की थी | सन 1563 से लेकर 1570 के बीच पुर्तगाली ही इसे सबसे पहले गोवा ले कर आये और वहां इसका प्रोडक्शन शुरू करवाया । वहां से यह धीरे धीरे पूरे South East Asia में फैल गया। दुनिया का सबसे बड़ा काजू का पेड़ लगभग 7,500 m2 (81,000 वर्ग फुट) क्षेत्र में फैला हुआ है और यह नेटाल, रियो ग्रांडे डो नॉर्ट, ब्राजील में स्थित है।

उगाने के लिए उचित परिस्थितियां

काजू का पेड़ बहुत हीं तीव्र रूप से बड़ा होने वाला पेड़ है जिसपर पौधा रोपने के लगभग 3 साल बाद हीं फूल लगने हैं और उसके कुछ महीने बाद हीं फल पककर तैयार होने लगते है। इसके पेड़ को उगाने के लिए कुछ उचित परिस्थितियों का होना जरुरी है जैसे की :-

  • भूमि :- वैसे तो काजू के पेड़ को हर तरह की भूमि में उगाया जा सकता है लेकिन फिर भी इसकी बेहतर पैदावार हेतु जल निकासी वाली दरदरी बलुई दोमट मिट्टी बेहतर होता है ।
  • जलवायु :- काजू का पौधा अत्याधिक तापमान में आसानी से बढने वाला वृक्ष है। जिस क्षेत्रों में लगभग 1000 से 2000 मी. वर्षा होती है वह area काजू के पेड़ को उगाने के लिए अच्छा माना जाता है । पेड़ पर फूल और फल लगने वक्त ज्यादा वर्षा और मौसम में अधिक नमी होना पौधे के लिए हानिकारक साबित हो सकता है ।

काजू के पौधे लगाने की विधि और समय

आमतौर पर चैकोर विधि से काजू के पौधे को लगाया जाता है । इसके पौधे को June से लेकर August के बीच में रोपना सही रहता है । इसके पौधे को सर्दियों के मौसम को छोड़कर साल के किसी भी महीने में पानियों से सींचा जा सकता है ।

पौधे को रोपने समय ध्यान रहे की पौधे से पौधे की दूरी लगभग 7.5×7.5 meter से लेकर 8×8 मीटर होनी चाहिए । काजू के पौधे लगाने के समय अच्छी मात्र में खाद का उपयोग करना चाहिये ताकि पौधा सेहतमंद बढे | इसके पेड़ों को सही शकल देने के लिए समय समय पर पेड़ की कटाई छटाई करते रहना जरुरी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *