गोटू कोला क्या है, परिचय और फायदे – Gotu Kola in Hindi

By | February 18, 2020

Gotu Kola एक आयुर्वेदिक पौधे के रूप में है, जिसे सेंटेला एशियाटिक, तथा ब्राह्मी बूटी के नाम से भी जाना जाता है | यह एशिया के वेटलैंड्स का मूल निवासी है | इसे सब्जी के रूप में तथा औषधीय जड़ी बूटियों को बनाने के लिए उपयोग में लाया जाता है | तो आइये जानते हैं, की यह ब्राह्मी बूटी किस प्रकार का सब्जी है तथा इसके गुण किस प्रकार के हैं |

Gotu Kola information in Hindi

तो चलिए जानते हैं Gotu Kola in Hindi आखिर क्या होता है और इसके फायदे से जुडी जानकारी :

English Name: Gotu Kola, Mandookparni & Asiatic Pennywort
Hindi Name: ब्राह्मी बूटी या मण्डूकपर्णी, Thimare
Scientific Name: Centella Asiatica
Family:
Apiaceae

परिचय / Introduction of Gotu Kola

यह ब्राह्मी बूटी एक प्रकार का फैलने वाला लत होता है, जो नर्म वातावरण वाले स्थान में होते हैं | ये ब्राह्मी बूटी दुनिया भर के अनेक उष्णकटिबंधीय दलदली क्षेत्रों में पाया जा सकता है | इसके तने पतले हरे रंग के होते हैं, इसमें लंबे समय से डंठल वाले हरे गोल एप्स होते हैं | यह गेटू कोला जरूरतमंद विटामिन और खनिजों का एक अच्छा स्रोत है, जो हमारे स्वास्थ्य को बनाए रखने में हमारी मदद करती है | यह नसों और दिमाग की कोशिकाओं के लिए फायदेमंद है, इसलिए इसे भारत, चीन, श्रीलंका, नेपाल और मेडागास्कर में इसे ब्रेन फूड के नाम से जाना जाता है |

पत्तियां / Leaf

इन पत्तियों के किनारे-किनारे हल्के से नुकीले जैसे आकार बने होते हैं तथा ये पत्तियां दिखने में छतरी के जैसे फैले हुए होते हैं | ये पत्ते गहरे हरे रंग में मांसल होते हैं तथा इनका व्यास लगभग ½ इंच से 1 इंच तक हो सकता है |

फूल / Flower

इसके फूल सफेद या गुलाबी-लाल रंग के होते हैं, जो मिट्टी की सतह के पास छोटे-छोटे गोल गुच्छों में खिले हुए होते हैं | इसके फूल लगभग 3 मिमी या उससे कम आकार के होते हैं, जिसके हर फूल में 5 से 6 करोला लोब होते हैं | सभी फूल आंशिक रूप से दो हरी छतों में मिले हुए होते हैं |

उपयोग एवं फायदे / Uses and Benefits of Gotu Kola in Hindi

इस ब्राह्मी बूटी की खेती मुख्य रूप से पागलपन तथा मिर्गी जैसे रोगों को ठीक करने के लिए उपयोग में लायी जाती है | इसके अलावे इसका उपयोग निम्नलिखित रोगों को ठीक करने के लिए किया जा सकता है |

  • चिंता, तनाव, और शरीर में दर्द होने वाली समस्या से राहत पाने के लिए इसका इस्तेमाल कर सकते हैं |
  • यह ह्रदय की रक्षा करता है और दिल के दौरे तथा स्ट्रोक से होने से बचने में काफी सहायता करता है |
  • चिंता और तनाव जैसी समस्याओं को दूर करने के लिए इसका उपयोग कर सकते हैं |
  • इसका उपयोग करने से यह परिसंचरण में सुधार लाने में काफी मदद कर सकता है |
  • किसी भी प्रकार की छोटी या बड़ी सूजन को कम करने के लिए इसका उपयोग कर सकते हैं |
  • पुराने घाव को भरने तथा दाग को हटाने के लिए यह बेहद फायदेमंद हो सकता है |
  • जोड़ों में होने वाली दर्द से छुटकार पाने के लिए इसका उपयोग किया जा सकता है |
  • इस ब्राह्मी बूटी से अल्जाइमर रोग का इलाज करके उसे ठीक भी किया जा सकता है |

इस तरह के और कई पौधे हैं जैसे अजवाइन का पौधा, Magnolia Flower आदि |

रोचक तथ्य / Interesting Facts

  • इस ब्राह्मी बूटी की पत्तियां  दिखने में  ही खुबसूरत तथा गुणकारी भी होते हैं |
  • इसे एक औषधीय पौधे के रूप में भी जाना जाता है |
  • ये पौधे एक लत/डाली  में निकलकर फैलते हैं, जिसके प्रत्येक पत्ते हल्के खड़े होते हैं |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *