Dahlia Flower in Hindi – डहेलिया फूल को कैसे उगाये, देखभाल की जानकारी

By | July 8, 2019

यह Dahlia Flower एक ऐसा पौधा है जिसे आप आसानी से लगा सकते हैं | डहेलिया डेज़ी और सूरजमुखी के साथ-साथ एस्टेरसी (एस्टर) परिवार से भी संबंधित हैं । इस फूल की प्रजातियों में सूरजमुखी और डेज़ी के अलावा गुलदाउदी और झिननिया जैसे फूल भी शामिल हैं । डहेलिया फूल मैक्सिको का मूल निवासी कहलाता है और यह झाड़ीदार, कंदमय, शाकभक्षी बारहमासी पौधों का एक समूह है। यस वार्षिक खिलने वाला पौधा होता है ।  डाहलिया की लगभग 42 प्रजातियां पाई जाती हैं, जिनमें से संकर किस्मे आमतौर पर बगीचे के पौधों के रूप में उगाए जाते हैं।

Dahlia flower detail information in Hindi

आइये अब जानते है विस्तार में Dahlia Flower से जुडी information जैसे इसे कब और कैसे उगाये, इसकी देखभाल की जाये आदि जानकारी |

डहेलिया फूल की जानकारी

फूल

डहेलिया फूल के आकार इसके किस्मो के आधार पर भिन्न होते हैं । आमतौर पर ये 5 सेंटीमीटर से लेकर 30 सेंटीमीटर व्यास तक हो सकते हैं। यह फूल अपनी विविधता के आधार पर निम्नलिखित रंगों में पाया जाता है:

  • सफेद
  • पीला
  • नारंगी
  • लाल
  • गुलाबी
  • बैंगनी रंग

इसके अलावे डहेलिया कि कई किस्मे तो दो रंगों में भी खिलते है ।

पौधे व पत्ते

डहेलिया के तने पत्तेदार होते हैं, जिनकी ऊँचाई 30 से.मी. यानि की 12 इंच से लेकर 1.8-2.4 मीटर (6–8 फीट) से अधिक होती है।

मौसम

डाहलिया फूल का मौसम शुरुआती वसंत में शुरू होता है , हालांकि गर्मियों की शुरुआत में इसके फूल गिर भी जाते है। वैसे डहलिया असली सूर्य-प्रेमी हैं, ये गर्म के तापमान से प्यार करता हैं।  अधिक ठण्ड व तेज हवाएं इसके पौधे के लिए सही नहीं होते है । इसके पौधे धूप वाली जगह पर सबसे अच्छी तरह से विकसित होते है । इसके पौधे की रोपण के लिए वसंत में जमीन पूरी तरह से डीफ्रॉस्ट होने के साथ कम से कम 10 डिग्री सेल्सियस तक गर्म होना चाहिए । हमारी स्थानीय सीमाओं के भीतर सामान्य मौसम की स्थिति के तहत, आमतौर पर इसे मई उगाना शुरू किया जाता है ।

इसी तरह और भी कई फूल हैं जैसे की Zinnia Flower, Jasmine Flower आदि |

डहेलिया को कैसे उगाये / How to plant Dahlia 

  • डहलिया को बीज से उगाया जाता है । इसके पौधे ज्यादातर खुली जगह पर और खादयुक्त, बलुई मिट्टी में अच्छे से विकसित होते हैं। बीज बोने का तरीका है :-
  • सबसे पहले अच्छी तरह से सूखा मिट्टी में 4-6 इंच गहराई तक छेद खोदें।
  • उसके बाद तने का सामना करने के साथ छेद में कंद सेट करें।
  • मिट्टी और पानी को तभी बदलें जब मिट्टी बहुत सूखी हो। अंकुर 2-4 सप्ताह में दिखाई देंगे।
  • इसके पौधे को हमेशा पंक्तियों में लगाया जाता है और पौधे को खुर्पी की सहायता से रोपा जाता है ।
  • रोपन के बाद पौधे की जड़े को चारों ओर से अच्छे से दबा कर उसपर हल्का पानी का छिड़काव करना उचित रहता है ।
  • एक बार जब आपकी डाहलिया 8-10 ”लम्बी हो जाती है, तो उन्हें हर दो से तीन सप्ताह में तरल उर्वरक के साथ डालना शुरू करें।

Dahlia पौधे की देखभाल कैसे करे

  • जब तक डहेलिया के पौधे दिखाई नहीं देंगे तब तक मिट्टी को पानी देने की कोई आवश्यकता नहीं है । अधिक पानी देने से कंद सड़ सकते हैं। जैसे हीं डाहलिया स्थापित होने लगे सप्ताह में कम से कम 30 मिनट के लिए छिड़काव के साथ 2 से 3 बार गहरी पानी से पौधे को सिंचना चाहिए ।
  • डाहलिया को कम नाइट्रोजन वाले तरल उर्वरक से लाभ होता है । अंकुरित होने के बाद और फिर मध्य शरद ऋतु से लेकर शुरुआती शरद ऋतु तक हर 3 से 4 सप्ताह में खाद डालना अच्छा माना गया है ।
  • यदि आप डाहलिया के बड़े फूलों को उगाना चाहते हैं तो फूल क्लस्टर में केंद्रीय एक के बगल में 2 छोटी कलियों को हटाने की कोशिश करें।
  • जरुरत पड़ने पर 10 दिन के अंतराल में खरपतवार को हटाने के लिए निराई-गुङाई करनी भी करते रहना चाहिए ।
  • यदि आप डहलिया के फूलो की कटाई करने का सोच रहे है तो उसके लिए सही समय सुबह का होता है ।

डहेलिया से जुडी कुछ महत्वपूर्ण तथ्य / Interesting Facts

  • डहलिया मुल रूप से मैक्सिको के पहाड़ी क्षेत्रों पाई जनि वाली वनस्पति है यद्यपि ये गर्म देश में विकसित होते हैं |
  • डहेलिया वास्तव में शीतोष्ण एव समशीतोष्ण परिस्थितियों में अच्छे रूप से विकशित होते है । इसकी लगभग 30 प्रजातियां और 20,000 विविधता पाई जाती हैं |
  • कहा जाता है स्पेन के बोटनिस्ट ने मैक्सिको की रेतीली पहाड़ियों के जंगलो में उगते हुए इसका पता लगाया। इसकी उत्पत्ति मध्य अमेरिकी में 16 वीं शताब्दी में हुई थी।
  • डहलिया का फूल का आकार 2 इंच से लेकर विशाल 15-इंच तक चौड़ा होता है। इसकी अधिकांश किस्में लगभग 4 से 5 फीट तक लंबी होती हैं।
  • डाहलिया के फूल बुआई के लगभग 8 सप्ताह के बाद जुलाई के मध्य से शुरू होते हे खिलने लगते हैं।
  • डाहलिया का नाम स्वीडिश वनस्पति वैज्ञानिक एंडर्स डाहल के नाम पर 18 वीं शताब्दी में रखा गया है।
  • डाहलिया सिएटल शहर का आधिकारिक फूल है। डाहलिया के आकर्षक होने के कारण सजावटी रूप में इनका इस्तेमाल किया जाता है |
  • डाहलिया के जड़ भूमिगत रूट सिस्टम में जटिल होते है, जिसमें कई अलग-अलग कंद होते हैं | डहेलिया के पौधे को बीज या बीजाणु के लाभ के बिना साल दर साल परिपक्व होने दिया जाता हैं। ताकि अगले उपज में अंकुरित हो सके मगर प्रत्येक कंद की एक आंख होनी चाहिए।
  • डाहलिया नीले रंग में छोड़कर लगभग हर रंग में पाया जाता है | ब्रीडर्स अभी भी सुंदर नीले खिलते हुए डाहलिया बनाने की खोज में लगे है ।
  • डहेलिया के फूलों के पैटर्न और अन्य फूलों से समानता के आधार पर इसकी विस्तृत किस्में हैं-

एकल फूल वाले दहलिया, एनामोन फूल वाले दहलिया, कोलरेट दहलिया और वाटरली दहलिया ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *