Bela Flower in Hindi – चमेली के फोल से जुडी जानकारी

By | July 6, 2019

Bela एक ऐसा फूल है जो की भारत के आमतौर पर लगभग सभी घरो में देखने को मिल जाता है । इस फूल का हमारे दैनिक जीवन में भी काफी मांग है। हिन्दू धर्म के कई देवी देवताओं की पूजा व श्रृंगार में भी इस फूल का इस्तेमाल किया जाता है । इसके अलावा इस फूल का इस्तेमाल गजरा बनाने के लिए , इत्र बनाने में या फिर शादी में भी किया जाता है । सफेद रंग का दिखने वाला ये छोटा सा फूल अपनी तेज खुशबुओं से लोगो को अपनी तरह आकर्षित करता है । आइये अब बेला फूल के बारे में और भी details में जानते है ।

Bela Flower yani Chamele ka phool

Meaning of Bela Flower in Hindi = चमेली का फूल 

Introduction / परिचय

“अरबी जैस्मीन” जो की भारत देश का मूल निवासी कहलाता है यह “बेला” के नाम से प्रसिद्ध है। यह एक सदाबहार झाड़ी है जो की एक flower pot में भी 5 फीट ऊंचाई तक पहुंच सकता है। यह फिलीपींस का राष्ट्रीय फूल कहलाता है। फिलीपींस में इस फूल को ‘संपागिता’ के नाम से जाना जाता है। इस पौधे का सबसे आकर्षक पहलू इसके सफेद, छोटे, तारे के आकार के फूल हैं जो बेहद सुगंधित होते है ।

About Bela Plant / चमेली के पौधे

बेला फूल की झाड़ी कम से कम 2 meter तक की ऊंचाई तक बढ़ सकती है। इसकी लताएँ लगभग 6 से 10  फुट तक ऊँची होती है। इस फूल की कई छोटी नस्लें भी है जिसे घर में हीं उगाया जा सकता है ।

Flower / फूल

बेला के फूल पूरे वर्ष भर खिलते हैं और शाखाओं के सिरों पर एक साथ 3 से 12 के समूहों में पैदा होते हैं।  यह फूल रात में (आमतौर पर शाम के समय में करीब 6 से 8 बजे ) खिलते हैं  और सुबह के समय बंद हो जाते हैं । शाम के समय में इसके खिलते हीं इसकी खुशबू दूर दूर तक फ़ैल जाती है।

Leaf / पत्ते

बेला फूल की पत्तियां ओवेट शेप यानि की हल्की गोलाकार shape के होने के साथ साथ कुछ चिकनी भी होती है । इसके पत्ते लगभग ५ से १२ सेमी. तक लंबी हो सकती हैं। 

Climate for Bela Flower / चमेली के लिए अनुकूल मौसम

यदि आप इस फूल की खेती करना चाहते है या फिर इसे अपने घर में हीं लगाना चाहते है तो इसके लिए वसंत से वर्षा ऋतु तक सबसे उचित समय रहता है । इसकी मीठी मीठी खुशबु गर्मी के दिनों में ताजगी का अनुभव कराती है।

Varieties / प्रजातियाँ

बेला फूल की 2 प्रमुख species (प्रजातियाँ) हैं :-

  • मोगरा – इसके पत्ते गोल और एक हीं जगह पर 3-4 होते हैं। इसके फूल की पंखुड़ियों में कई सारे चक्र भी होते हैं।
  • मोतिया – इसके पत्ते करीब 8cm लम्बी और 6cm चौड़ी होती हैं और इसकी कलियाँ गोल होती हैं ।

इस दोनों प्रजातियों के अलावा भी bela के कई और किस्मे पाए जाते है जिन्हें मुख्य रूप से दो भागों में बाँटा गया है – इकहरे पंखुरियों वाली और दोहरे पंखुरियों वाली ।

इकहरे :- bela फूल की यह प्रजाति व्यावसायिक रूप से ज्यादा प्रचलित नहीं है।

दोहरी :-यह प्रजाति व्यवसायिक स्तर पर देश के कई भागों में उगाया जाते है । कनौज, जौनपुर, बलिया लखनऊ जैसे आदि कई शहरो में बेला की इस किस्म को उगाया जाता है ।

Bela Flower Facts / चमेली फोल के कुछ महत्वपूर्ण तथ्य

  • बेला का फूल भारत की मूल निवासी है जिसे अरबी जस्मीन से भी जाना जाता है |
  • यह एक सदाबहार झाड़ीनुमा प्रजाति है जो लगभग 5 फीट या 2 मीटर ऊंचाई तक बढता है । इसकी छोटी नस्लें घरो में लगाने के लिये अच्छी रहती हैं
  • बेला का फूल सबसे आकर्षक बात इसके सफेद, छोटे, तारेनुमा आकार के फूल हैं जो सुगंधित और एक अद्भुत मीठी खुशबू छोड़ते है । इसके फूल जून माह में खिलते है |
  • बेला के पत्तियाँ चिकनी और आकर अंडाकार हरे रंग का होता है । जो प्राय 5 से 12 से.मी. तक लम्बी होती है |
  • बेला का फूल 5 या 6 के जोड़े में टहनियों में उगते है|
  • बेला की दो प्रमुख प्रजातियाँ हैं- मोगरा और मोतिया।
  • यह फिलीपींस का राष्ट्रीय फूल है। वहां इसे ‘संपागिता’ के नाम से जाना जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *