बादाम का पेड़ यानि Almond Tree की जानकारी

By | July 18, 2019

बादाम जिसे अंग्रजी में almond कहा जाता है यह एक तरह का dry fruit यानि की मेवा होता है । आज हम बादाम के पेड़ के बारे में बात करने जा रहे है । अगर आप अपने बगीचे में इस लाभदायक बादाम का पेड़ लगाने की सोच रहे है तो इसे जरुर पढ़े क्योंकि इस यहाँ पर बादाम के पेड़ को उगाने की पूरी जानकारी तो दी हीं गई है साथ हीं इस पेड़ के फल , फूल , पत्ते इत्यादि के बारे में भी बताया गया है ।

Almond Tree Badam ka ped

बादाम का पेड़ / Almond Tree

भारत व जापान में बादाम के पेड़ की खेती अत्याधिक मात्रा में होती है। इसके अलावा और भी कई देश है जहाँ इसकी खेती की जाती है । वैसे तो बादाम एक तरह का dry fruits है और लेकिन यही बादाम almond tree का बीज भी होता है । बादाम का पेड़ मध्यम आकार का होता है और इस पेड़ पर गुलाबी और सफेद रंग के फूल भी लगते हैं। आमतौर पर यह पेड़ पर्वतीय क्षेत्रों में ज्यादा देखने को मिलता हैं। यह पेड़ दिखने में आड़ू की तरह होता है ।  यह पेड़ 4 से लेकर 10 मीटर तक की उचाई तक बढ़ता है । इस पेड़ की सभी नई टहनियाँ शुरुआत में हरे रंग की होती हैं जो की बाद में धीरे धीरे बैंगनी होने लगती हैं ।

बादाम पेड़ के फूल और पत्ते 

बादाम के पेड़ की पत्तियाँ लगभग 8 से 13cm तक लंबी होती है । इसके फूल सफेद और गुलाबी लगभग 3 से 5cm यानि की 1 से 2 इंच व्यास के साथ पाँच पंखुड़ियों वाली होती है । इसके फूल  अकेले या जोड़े में उत्पन्न होते हैं और ये फूल शुरुआती वसंत में पत्तियों से पहले दिखाई देते हैं। शरद ऋतु में इसके फल फूल के 7-8 महीने बाद परिपक्व होते हैं ।

फल / Fruit

बादाम के पेड़ का फल लगभग 3 से लेकर 6 cm तक लंबा होता है। इस फल के ऊपर एक बाह्य होता कठोर खोल / आवरण होता है। वैसे जो ज्यादर बाजार में मिलने वाले बादाम बिना छिलके के ही होते है। छिलके को अलग करने के बाद उसके अन्दर से जो बीज निकलता है उसे हीं बादाम के रूप में खाया जाता है। छिलके को हटाने के बाद अन्दर से जो बीज निकलता है उसका रंग गेरुआ या तो गहरा पीला होता है। बादाम भी दो तरह के पाए जाते है एक बादाम मीठा होता है जिसे खाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है और दूसरा बादाम थोड़ा कड़वा होता है और इस कड़वे बादाम से तेल निकाला जाता है।

बादाम के फायदे / Benefits of Almond

  • बादाम में ढेर सारे न्यूट्रीशन और मिनरल्स पाए जाते हैं जो की हमारे लिये बहुत ही फायदेमंद होते है | जैसे प्रोटीन, विटामिन E, कैल्शियम , फॉस्फोरस इत्यादि ज्यादा मात्रा में पाए जाते है |
  • बादाम को भिगोकर खाने से मनुष्य का दिमाग अत्यधिक तेज होता है |
  • अगर हम बादाम को भिगोकर खाते है तो , यह आसानी से हमारे पाचन क्रिया को स्वस्थ रखता है |
  • गर्भवती महिलाओं को भीगे हुवे बादाम का सेवन करने से उन्हें पूरा न्यूट्रीशन मिलता है जिससे उनका आने वाले बच्चा स्वस्थ रहता हैं।
  • इसमें बहुत सारे एंटी-आक्सीडेंट गुण होते है जो की हार्ट जैसी खतरनाक बीमारी को दूर रखता है।

अनुकूल जलवायु

बादाम गर्म, शुष्क गर्मियों और हल्के, गीले सर्दियों के साथ भूमध्यसागरीय जलवायु में सबसे अच्छा बढ़ता है। उनकी वृद्धि के लिए इष्टतम तापमान 15°C से लेकर 30°C के बीच होता है । जिस देश में वर्षा भी बहुत कम होती है वहां बदाम का पेड़ को उगाना बहुत हीं आसान होता है ।

बादाम के पेड़ कैसे उगाये

बादाम के पेड़ को दो तरह से उगाया जा सकता है , पहला इसके बीज यानि की बादाम से और दूसरा इसके पौधे से । इस पेड़ को अगर आप चाहे तो अपने घर के बगीचे में भी उगाया जा सकता है । यदि आप बीज द्वारा बादाम के पेड़ को उगाना चाहते है तो इसके लिए आपको इस बात का खास ख्याल रखना होगा की उपयोग में लाया जाने वाला बादाम मीठा है या कड़वा । क्यूंकि पेड़ को उगाने के लिए जिस बीज का इस्तेमाल किया जायेगा उस पेड़ का फल वैसा हीं होगा । एक बात आपको बता दें की पौधे की तुलना में बीज द्वारा उगाये जाने वाले पेड़ में थोडा ज्यादा समय लगता है ।

अच्छा होगा की आप नजदीकी नर्सरी से बादाम का पौधा ले आये और फिर उसे अपने बागीचे में लगाये | ख्याल रहे की इसे संध्याकाळ (शाम) के वक्क्त लगाये और खाद आदि जरुर दे |

कैसे जगह पर पेड़ उगाये

बादाम के पेड़ ऐसे जगह पर बहुत हीं अच्छे से पनपता है जहाँ पौधे पर ज्यादा धूप पड़े । इसलिए इस पेड़ को किसी खुली स्थान पर लगाना सही होता है । बेहतर होगा की पौधे को ज़मीन पर लगाने से पूर्व उसे पहले किसी गमले में लगा कर कुछ दिनों तक छोड़ दें उसके बाद पौधे को गमले से निकाल कर कोई भी अच्छी सी जगह जहाँ धूप ज्यादा आती हो रोप दें। ख़याल रहे की जिस भी जगह पर पानी निकलने का अच्छा बंदोबस्त हो वहीँ पौधे को लगाए क्योंकि पानी के जमा हो जाने से पौधे की जड़ें का खराब होने का डर रहता है जिससे पौधा पनप नही पता है । इसके पौधे को लगाने के बाद शीघ्र हीं पौधे में सही मात्रा में पानी देना चाहिए और मिट्टी को पूरी तरह गिला कर देना चाहिए । पौधा रोपने के बाद इस पेड़ से फल प्राप्त करने हेतु कम से कम 5 साल इंतजार करना होता है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *